jane tu ya jane na

जाने तू या जाने ना  jane tu ya jane na  -


कब  मैंने  कहा था  की मुझे तुझपे ऐतबार नहीं 
इन छोटी छोटी बातों में प्यार नहीं 
कही अफसाना न बन जाये अपनी कहानी 
कही तू मत कह देना की तुझे मुझसे प्यार नहीं 

वो भीगते हुए  तेरे दीदार की चाहत 
वो  तेरी मुस्कुराहटो  में ढूंढती  हंसी अपनी 
वो  इन्तजार  में बैचेन निगाहें 
जाने तू या जाने ना 

काश कभी जिंदगी में वो मुकाम आता 
की बताते तुझे अपने दिल का हाल 
काश की तू इतना न भाता 
की बदली न होती अपनी चाल 


काश की इन धड़कनो में तू न  समाता 
की हर तरफ तू ही नजर आता 
इश्क़ हो गया है तुझसे 
माने  तू या माने  ना 
अधूरी सी लगती है जिंदगी अब तेरे बिन 
जाने तू या जाने ना 



 

modi bhakti

भक्त उसी के होते है जिसके कार्य महान होते है




एक होते  है प्रशंसक उसके बाद अनुयायी और सबसे बड़ा भक्त , भारतीय राजनीति मे शुरुआती दोनो प्रकार के लोग सदैव रहे है परंतु भक्त आजतक कोई राजनेता नही बना सका है . यह पहली बार है जब किसी नेता के अनुयायियो को भक्त कहा जाता है उसपर से अंधभक्त .


 कहा जाता है की भक्ति से ही शक्ति है यही कारण है की इन्ही भक्तो की भक्ति से प्राप्त शक्ति के कारण मोदी भारतीय राजनीति का वो चेहरा बन घुके है जिनपर लगने वाले आरोपो से उन्हे लाभ ही होता है . दशको बाद भारत को एक ऐसा नेता मिला जिसकी ईमानदारी पे किसी को कोई शक नही यह बात अलग है की पिछली सरकार अपने द्वारा किये गये भ्रष्टाचार का खामियाजा आजतक भुगत रही है और इस सरकार पर भी बेवजह आरोप लगाने से नही चुकती . 

लेकिन वो भूल जाती है की लोगो ने सरकार को भरपूर समर्थन दिया है और राज्यो मे होने वाले चुनाव यह बताते है की लोगो की भक्ति मे किसी तरह की कमी नही आई है . शासन के दौरान सुधार हेतु कुछ ऐसे निर्णय भी लेने पड़ते है जिनसे जनता मे नाराजगी उत्पन्न होती है इसी कारण कई राजनीतिक पार्टिया देश हित को त्याग कर वोट बैंक की राजनीति हेतु ऐसे निर्णय लेने से बचती है . मोजुदा सरकार ने इसकी परवाह ना करते हुए देशहित मे ऐसे अनेक निर्णय लिये जिनका लाभ भविष्य मे मिलना तय है परंतु इन्ही सब को लेकर विपक्ष द्वारा दुष्प्रचार की नीति जारी है .

 परंतु वे भी चाहे जितना प्रयास करले भक्तो के आगे सब विफल है . अगर उनमे काबिलियत है तो केवल अपने बिना लाभ वाले अनुयायी ही बनाकर दिखा दे भक्त तो दूर की बात है. फिलहाल विपक्ष भारतीय राजनीति मे खलनायक का वो चेहरा है जो हमे फिल्म नायक मे देखने को मिलता है जिसमे सारे विरोधी मिलकर भी एक नायक का कुछ नही कर पाते क्योंकि ये पब्लिक है ये सब जानती है .

इन्हे भी पढ़े - मोदी बनाम विपक्ष 

mahfil a dilli

महफ़िल ए दिल्ली  mahfil a dilli   



आज महफ़िल में तूफ़ान मचाते है हम 
चलो जरा दिल्ली घूम कर आते है हम 

रंग बदली है और बदली है फिजा भी देखो 
चारो तरफ धुंध ही धुंध  है और हवा भी  देखो

रंग बदला है देखो  आज उस दिल्ली का 
आप के हाथ में आज कमल है  देखो    

जहां मुमताज महल लाल किले  का जिक्र हुआ करता है 
पता नहीं  उस पर भी कब धब्ब्बा  लग जाये देखो 

दिल्ली ने तो दिल्ली वालो  को ही लूट लिया 
जनता भी उसमे पिसती  है देखो 

जिन्हे वोट देकर जिताया सभी ने 
आज उन्ही को अपने बयान पर माफ़ी मांगकर रोते देखो 

क्या कहे बड़े लोगों  की बातो को  
इनसे तो सच्चा गरीब का बच्चा है देखो 

जहाँ बड़े लोग लुटाते है देश का धन अपने स्वार्थ में 
देश के लिए जो मर - मिटे
उनके अपनों के दुखों को बांटकर तो देखो 

महलो में तो सजती रही है महफिले लाखो 
कभी गरीबखानो में भी महफिले जमा कर देखो 


इन्हे भी पढ़े -

राजनीति पे कविता 

modi vs apposition

मोदी बनाम विपक्ष  modi banam wipaksh - 




लगभग साठ सालो तक देश की बागडोर संभालने वाली कांग्रेस आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड रही है , कारण 2014 से चलने वाली मोदी लहर .

modi vs apposition मोदी लहर के चलने के अनेक कारणो की समीक्षा की जा सकती है लेकिन अगर कहा जाये वर्तमान मे मोदी लहर कमजोर पड़ी है तो क्या आप बता सकते है की किस पार्टी या नेता की लहर मजबूत हो रही है , क्या मोदी का मुकाबला करने की थोड़ी सी भी हैसियत उस विपक्ष मे है जिसका संवाद जनता से टूट चुका है . विपक्ष के पास जब - जब सत्ता मिली है उसने देश को सिर्फ और सिर्फ लूटने का ही कार्य किया है क्या विपक्ष की सत्ता प्राप्ति का उद्देश्य और मोदी सरकार की सत्ता प्राप्ति का उद्देश्य एक ही है  जवाब आपको भी पता है .

यही वजह है की पूरा विपक्ष एकजुट होकर भी मोदी का मुकाबला नही कर सकता क्योंकि विपक्ष की नीयत जनता अच्छी तरह जानती है . भारत जैसे विशाल देश मे लोगो की अपेक्षाये भी विशाल ही होती है और अपेक्षाओ पर निस्चित समय मे खरा उतारना  ईश्वर के बस की ही बात है. लेकिन उसकी शुरुआत करना और इस बात का भरोसा लोगो मे  होना की देश विकास की ओर अग्रसर है सरकार की किसी उपलब्धि से कम नही है . विश्‍व मंच पर भारत जिस तरह अपनी उपस्थिति दर्ज कराते जा रहा है  उसका श्रेय निश्‍चित  ही मोदी सरकार के खाते मे जायेगा .
नोटबंदी जैसे मुद्दे को विपक्ष ने भुनाने की कोशिश  की पर कभी इसका जिक्र नही किया की  कैसे जाली नोट और आतंकवाद की कमर तोड़ने मे इसने अहम योगदान निभाया  . नोटबंदी से भारत मे एक ऐसी व्यवस्था ने ज्न्म लिया जिसमे करो की चोरी करने वाले  लोगो के मन मे दहशत  पैदा हुई .
आधार कार्ड का सबसे अधिक विरोध वे लोग ही ज्यादा करते दिखे जिनकी अनेक बेनामी संपत्तियाँ उजागर होते जा रही है आजतक के भारतीय इतिहास मे ऐसा पहली बार हुआ जब किसी सरकार ने  राम रहीम जैसे ढोंगी बाबाओ को सालांखो  के पीछे पहुचाया  जिसकी कल्पना किसी अन्य सरकार मे नही की जा सकती . लालू जैसे चारा चोर को जिस सीबीआइ  ने  आजतक राहत दे रखी थी वही आज उसके सारे मामलो को अदालत से जल्द फैसला दिलवाने मे लगी हुई है . पाकिस्तान  मे मोदी की दहशत इसी से समझी  जा सकती है की आज वहा मोदी  का विरोध करके पार्टियाँ अपनी राजनीति की दुकान चलाती है .

उसी राजनीति की दुकान को चलाने के लिये आज सारा विपक्ष एकजुट है जो आज मोदी की वजह से बंद हो चुकी है . 2019 को पास आता देख विपक्ष द्वारा सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार का कार्य शुरु हो चुका है . और इसके लिये तमाम  तरह की तकनीको का भी भरपूर प्रयोग किया जा रहा है जिसमे हाल मे हुई फेसबूक और कैम्ब्रिज एनालिटिका द्वारा मिलकर  फेसबूक उपयोगकर्ताओ  की सूचनाओ  को चुराकर उनकी सौदेबाजी करना शामिल है .


वर्तमान भारतीय राजनीति मे कोई भी पार्टी  मोदी के दूर - दूर तक नही दिखाई देता विपक्ष चाहे जितना जोर लगा ले लेकिन जब तक मोदी स्वेच्छा से राजनीति का त्याग नही करते तब - तक भारतीय प्रधानमंत्री की कुर्सी की शोभा वे ही बढाएंगे .
   
इन्हे भी पढ़े -

 नरेन्द्र मोदी बनाम ब्रांड मोदी - 2019





girgit ki bechaini

गिरगिट की बेचैनी  -girgit ki  bachaini 


मेर घर के छोटे से बगीचे मे पौधो के बीच अनेक गिरगिट है जो की पानी देते वक़्त या पौधे के पास जाने पर अचानक से प्रकट होते है तथा मुझे देखके भागने लगते है पौधो के बीच वे रंग बदलकर उन्ही मे घुलमिल जाते है .कल शाम को पौधो मे पानी देते वक़्त अचानक से एक गिरगिट बाहर निकल कर आया  तथा भागने की बजाय मुझे देखने लगा वह  कुछ व्यथित सा नजर आ रहा था , इतने दिन मेरे घर मे रहते हुए उसे पता चल गया था की मैं एक लेखक हूँ .इसलिये भागने की बजाय वो मुझसे कई सारे सवाल पूछने लगा .

girgit ki bechaini

  
उसका पहला प्रश्‍न अपनी पहचान को लेकर था उसको लग रहा था की जिस पहचान के कारण उसकी नस्ल संसार भर मे प्रसिद्ध है उसको उससे छीनने का प्रयास किया जा रहा है .
मैने अन्जान बनकर जानना चाहा की कौन उसकी पहचान छीन रहा है . वो भी बड़ा चतुर था उसने मेरी तरफ इशारा कर दिया .
मैने पूछा में उसकी पहचान कैसे छीन रहा हूँ . 
अब वो गंभीर मुद्रा मे आ गया - बोला तुम कौन हो 
 अचानक ही मेरे मुंह से निकल गया आम आदमी  
गिरगिट - इसी आम आदमी का उदाहरण दे दे कर तुम्हारे जैसा एक इंसान आज खास आदमी बन गया .
न जाने कितने रंग बदले उसने पिछ्ले ही दिनो पढ़ा था उसने एक नया रंग खोज निकाला जिससे कीचड़ भी सॉफ हो जाता है .
क्या नाम था उसका ........ हाँ  माफीनामा , न जाने कितनो पे कीचड़ उछालने के बाद उसने इसका इस्तेमाल किया .
मैने भी उससे पूछ ही दिया - पर किसी से माफी मांगने मे क्या बुराई है .
गिरगिट - लो कर लो बात ऐसे तो हर कोई एक दूसरे पे कीचड़ उछालता रहे और तुम लोगो के चारो ओर दलदल ही दलदल हो जाये . क्या फिर तुम उसे माफीनामा से साफ कर पाओगे . बिल्कुल नही उसकी कीमत तो तुम्हे चुकानी पड़ेगी . कीचड़ उछालने से तुम्हारे हाथ भी गन्दे होंगे और सामने वाला भी तुम्हारी कुटाई को तैयार रहेगा . फिर चाहे कितना भी माफीनामा से सॉफ करते रहो ना तुम्हारा मैल सॉफ होगा ना उसका .
वो धीरे - धीरे अब अपने प्रमुख मुद्दे की ओर अग्रसर होने लगा था. 
गिरगिट - जबसे तुम आम आदमी राजनीति मे आ जाते हो पता नही ऐसा क्या हो जाता है की लोग तुम्हारी कसमो , वादो पर भी ऐतबार नही करते . कभी तुम केसरिया रंग लेकर किसी इलाके मे मांसाहार का विरोध करते हो. तो कभी किसी इलाके मे चुनाव जीतने के लिये उसे भी जायज ठहराते हो . यार इतनी तेजी से तो हम रंग नही बदल पाते जितनी तेजी से तुम लोगो की पार्टिया बदलवाते हो . अभी तक तुम्हारे नाम फेंकू , पप्पू  , जैसी कम उपाधिया थी जो अब हमसे हमारी पहचान छीनने मे लगे हो . 
हमारे रंग बदलने से तो किसी का नुकसान नही होता पर तुम्हारे रंग बदलने से कितने लोगो की उम्मीदे  टूटती है कुछ अंदाजा भी है तुम्हे , उस जनता के साथ - साथ  तुम मानवता के साथ भी   विश्वासघात करते हो . 
इतने रंग बदलते हो की तुम्हारा कोई रंग ही नही रह जाता . कुछ दिनो मे मुहावरो मे से हमारा नाम हटाकर लोग कहेंगे क्या नेताओ की तरह रंग बदल रहे हो . और हम एक विलुप्त प्राणी बनकर रह जायेंगे.  

अब में उसे कैसे समझाता जिस देश मे नेताओ द्वारा धर्म , रंग , शाकाहार - मांसाहार , वंदे मातरम , राष्ट्र - गान , तिरंगे तक का कापीराइट अपनी पार्टी के नाम करा लिया जाता है वहां  ये तो बहुत ही तुच्छ जीव है जिसने अगर ज्यादा विरोध किया तो उसका अस्तित्व ही संकट मे पड़  सकता है . 


इन्हे भी पढ़े - 

अच्छे दिनों की आस में 

   






naari wyatha



नारी व्यथा -  गंभीर समस्या  naari wyatha ek gambhir samasya  


"अजी सुनते हो "  - शब्द कानो में पड़ते ही दिमाग में हलचल होने लगती है की पता नहीं अब कौन सी मुसीबत आने वाली है। वैसी  ही अनुभूति  " ब्रेकिंग न्यूज़" सुनते समय होती   है।
                                                                        
naari wyathaशादी के कुछ समय बाद कानो को ये नया स्वर सुहाना जरूर लगता है परन्तु कुछ समय व्यतीत हो जाने के बाद आने वाले खतरे की आशंका से मन ग्रसित हो उठता है.  अभी कुछ दिन पहले ही पत्नी पीड़ित संघ के अध्यक्ष जी  से हुई बातचीत में उन्होंने विषय से सम्बंधित गंभीरता का विस्तार से वर्णन किया था वे बताने लगे की कैसे - कैसे लोग अपनी समस्या लेकर उनके पास आते है , उनमे इसका कोई फर्क नहीं पड़ता की वे किस ओहदे पर है  घर पर वे सभी एक नितांत भय के वातावरण में जीवन व्यतीत कर रहे है। अभी कल ही एक प्रख्यात चिकित्सक अपनी समस्या लेकर आये थे की उनकी धर्मपत्नी जो की चिकित्सक नहीं है इतनी शंकालु प्रवृत्ति की महिला है जो की सदैव उनके साथ चिपकी रहती है यहाँ तक की रोगियों को देखते वक़्त भी उनके बगल में कुर्सी पर विराजमान रहती है इस कारण चिकित्सक महोदय की खिल्ली उड़नी  लाजमी है .   मैंने भी अध्यक्ष जी की चुटकी ली की उनमे इस तरह का संघ बनाने की हिम्मत तभी आई जब वे कुंवारे है वर्ना एक शादीशुदा पुरुष के ख्यालो में भी इस तरह के विचार नहीं आ सकते। मुझे चिकित्सक महोदय की धर्मपत्नी की तरह ही उन समाचार चैनलों का ध्यान आया जो अक्सर ही सेलिब्रिटीयो की निजी ज़िन्दगी में तांका - झांकि करते है। 

मेरे बगल के शर्मा जी उपजिलाधिकारी के पद पर आसीन है परन्तु घर में प्रवेश से पूर्व मेरे यंहा आकर इस बात की जानकारी अवश्य लेते है की आज उनकी श्रीमती जी की मनोदशा कैसी  है। उसके पश्चात पूरी तैयारी के साथ घर में प्रवेश करते है। अभी कल ही उनका शाम का भोजन मेरे ही घर पर हुआ था कारण जो उन्होंने बताया उसको सार्वजनिक करने में लोगो का प्रशासन पर से विश्वास उठ सकता है। 

घर में यदि आपकी धर्मपत्नी की सास है तब तो आपके लिए कुछ आस है क्योंकि युद्ध के मैदान में शत्रु का ध्यान दोनों ही तरफ लगा रहता है।  अगर किसी के पूर्वजन्मों में किये गए पुण्यस्वरूप एक सुशील धर्मपत्नी  मिलती है तो उनसे अनुरोध है की घर में टेलीविजन का प्रवेश वर्जित करदे नहीं तो पूर्वजन्मों का पुण्य कब टेलीविजन की धारा में प्रवाहित हो जायेगा आप की सोच से परे है। 

जबसे टेलीविजन के विभिन्न चैनलों पर सास - बहु प्रकार के धारावाहिको की टीआरपी में बढ़ोत्तरी हुई  है तबसे आम आदमी के घर की सुख शांति में बेतहाशा गिरावट दर्ज की गई है , क्योंकि सास भी कभी बहु थी जैसे धारावाहिको ने बहुओ के अंदर सास बनने की ऐसी जिज्ञासा जगाई की देखके लगता नहीं की कौन सास है और कौन बहु।  जितना  छल - प्रपंच इन धारावाहिको में दिखाया जाता है  उसकी कल्पना कभी आम आदमी भी नहीं कर सकता , परन्तु  हमारे और आपके घर की गृहणियों के लघु मन मष्तिस्क में संदेह रूपी ज्वार - भाटा अवश्य ही उठ जाता है जो की समुन्द्र मंथन के बाद ही शांत होता है जिसमे विष का प्याला शंकर जी की ही तरह हमेशा  ही हमें  गटकना  पड़ता है। 

निश्चित रूप से इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता की वर्तमान समय में ये समस्या एक गंभीर रूप धारण करते जा रही है , महिला - मित्र से  जब इसका रूपांतरण पत्नी में होता  है तो इस समस्या की गंभीरता का पता  चलता है।  अनेक शोधार्थियों द्वारा इस क्षेत्र में शोधकार्य जारी है परन्तु अभी तक किसी भी नारी के मष्तिस्क का  १/१०  से ज्यादा हिस्सा नहीं पढ़ा जा सका है  . सरकार से अनुरोध है की देश की अन्य समस्याओ की तरफ इस पर भी ध्यान दिया जाये।  जिससे की प्रत्येक कार्यकारी पुरुष बिना भय और दुखी मन के अपने कार्य में अपनी क्षमता का १०० प्रतिशत योगदान दे सके जिससे देश के विकास का पहिया तेजी से आगे बढ़ते हुए संसार के अन्य देशो को पीछे छोड़ सके।   



इन्हे भी पढ़े = 

हाईस्कूल की परीक्षा और हम 





hindutw


हिंदुत्व का मतलब समझा दो मुझे  hindutw ka matlab samjha do mujhe 

hindutw

आज अगर में हिन्दुत्व की बात करू तो मुझे किसी न किसी पार्टी से जरूर जोड़कर देखा जायेगा चाहे मेरी बात सकारात्मक हो या नकारात्मक . दरअसल आज हर धर्म अपने राजनीतिक रंग मे रंग चुका है ऐसा इसलिये संभव हुआ है क्योकी धर्म ही एक ऐसा माध्यम है  जो व्यक्ति की आस्था और अटूट विश्‍वास से जुड़ा हुआ है  जिसके फलस्वरूप वो अपना कीमती वोट भी धर्म के नाम पे अनुचित रुख अख्तियार करनेवाली पार्टीयो को दे सकता है . यही कारण है की  राजनीतिक पार्टीयो ने समाज को बरगलाने के लिये सर्वप्रथम धर्म को हथियार बनाया है उसके बाद जाति को . एक और बड़ी चीज जो पहले से विद्यमान थी और जो हमारी रग- रग  मे बसती है उस देशभक्ति और भारत मां का भी कापीराइट करा लिया गया है , यानी की अब धर्म से लेकर देशभक्ति तक सब मे  राजनीति समाहित हो चुकी है .


इन सब के साथ साथ रंग भी राजनीति की चासनी मे डूब चुके है और अलग - अलग पार्टीयो ने इसपर भी अधिकार जमा लिया है .

आप सोच रहे होंगे की हिन्दुत्व की बात करने से पहले इतनी भूमिका क्यो ? तो बात सॉफ है की हम भी पाक सॉफ है और साथ मे एक सच्चे हिन्दू भी जो की मानवतावादी है , जिसका धर्म उसे उन्माद फैलाने को नही कहता जिसके धर्म ने भारत माता  का कापीराइट नही कराया है और इस देश पे उतना ही सबका हक है जितना की मेरा .  देशभक्त होने के लिये मुझे अब इन राजनीतिक पार्टीयो के प्रमाणपत्र की जरूरत नही जिनका खुद का कोई ईमान नही होता जो अपनी भारत माँ  का इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ अपने राजनीतिक हित  के लिये करते है बल्कि इनसे बड़ा देश द्रोही तो कोई और नही हो सकता जो अपनी माँ  का सौदा करते है जो  उस मां का दामन उसके  ही सपूतो को आपस मे लड़वा कर  खून से लाल करते हो  .

हिदुत्व हमे ये शिक्षा नही देता की हम उसमे राजनीति का मिश्रण करे , जिस हिन्दू धर्म के संस्कार का हम पालन करते है , हम उसकी विशेषताओ और सम्पूर्ण समाज के कल्याण की भावना से प्रेरित होकर कहते है की हमे ऐसे धर्म पे गर्व है जो की हमे शिक्षा देता है की संसार के कल्याण हेतु यदि प्राणो का न्योछावर भी करना पड़े तो हम हर्ष के साथ  उसका त्याग करदे जैसे की महर्षि दधीचि ने किया था . नाकी धर्म के नाम पर अपने ही भाई  - बन्धुओ  से बैर रखे . हिन्दू धर्म मे ही वसुधैव - कुटुम्बकम की अवधारणा दी गई है और इसी हिन्दू धर्म मे हमे सभी धर्मो का आदर करना भी सिखाया गया है . लेकिन अब हम अपने धार्मिक ग्रंथो को कहा पढ़ते है अब तो हमे जैसा दिखाया जाता है वैसा देखते है और जैसा सिखाया जाता है वैसा सीखते  है . अब तो बस हम हिन्दुत्व पे इसलिये गर्व करते है की हम बहुसंख्यक है , हम सरकार बनाते है वास्तविक गर्व का कारण  तो हमे पता ही नही है नही तो कई लोग हिन्दू कहलाने के लायक भी नही है . 


इन्हे भी पढ़े  - 

aap ka mafinama



आप की कसम और आप का माफीनामा arvind kejriwal ka mafinama 

aap

बहुत दिन बाद भारतीय राजनीति में कुछ नया देखने को मिला , पहले तो अभिनेता राजनीति मे आते थे अब लोग राजनीति मे आने के बाद अभिनय करते है , इधर कुछ दिनो से तो भारतीय राजनीति मे अभिनय को लेकर भारी प्रतिस्पर्धा है और गिरगिट जैसे छोटे जीव के पास उतने रंग नही रह गये है जितने रंग राजनीति मे देखने को मिल रहे है . कुछ हद तक गलती आम जनता की भी है जो वास्तविकता और अभिनय मे अंतर नही कर पाती तभी तो अन्ना आन्दोलन मे राजनीति मे न आने की कसम खाने वाले अरविन्द केजरीवाल ने जब अपने बच्चो तक की कसमे खा ली तो जनता ने आँखमूंद कर विश्‍वास कर लिया.

इंडिया अगेन्स्ट करप्शन से शुरु हुई सेवा कब आम आदमी पार्टी मे बदल गई पता ही नही चला वहा भी हम उनकी राजनीति मे न आने की कसमो को भूल गये और 28 सीटे दे दी . इसी के साथ शुरु हुई बच्चो की कसमे की मर जायेंगे लेकिन कांग्रेस और भाजपा का साथ नही लेंगे , भगवान उनके बच्चो को अपने बाप की बुरी नीयत से बचाये लेकिन आखिर आप ने जिस कांग्रेस को पानी पी पी कर गरियाया था उसका साथ ले ही लिया . और जनता फिर एक बार आपके अभिनय की कायल हो गई अन्ना जैसे बुद्धजीवी ने भी आपके अभिनय की तारीफ बखूबी की .

आप की राजनीति शुरु ही आरोप लगाने से हुई आरोप ऐसे लगाये गये जैसा आजतक किसी ने सोचा न था जनता को कुछ नया देखने को मिला अब क्या कीजियेगा जनता को जब – जब कुछ नया या अलग हट कर अभिनय देखने को मिलता है तो वो उसकी ओर जरूर आकर्षित होती है और भूल जाती है की ये राजनीति है , तभी तो पहली बार किसी पार्टी के मुखिया ने उसी संसदीय क्षेत्र का चुनाव किया जहा से दूसरी पार्टी के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी ने चुनाव लड़ने का एलान किया . आप की इसी अदाकारी ने आपसे वो करवा दिया जहा अभिनय के दम पर काम नही चलता सिर्फ और सिर्फ सबूत काम आते है . मीडिया मे बने रहने की जिस आदत की वजह से आप शीला दीक्षित से लेकर कपिल सिब्बल तक के खिलाफ सबूत होने की बात करते थे वो सारे सबूत आपके दुबारा मुख्यमन्त्री बनते ही गायब हो जाते है . लेकिन आप भूल जाते है की जनता छोड़ सकती है लेकिन अदालत सबूत मांगती है जो आप दे न पाये और अपनी हार होते देखते आप ने वो कर दिया जिससे आपकी पार्टी ही शर्मसार हो जाये . आपका माफीनामा भारतीय राजनीति मे कुछ हटकर है और आप भी। 


इन्हे भी पढ़े - 

आम आदमी पार्टी

कमल हासन और अरविन्द केजरीवाल  

gyan yog


अध्यात्म और ज्ञान योग adhyatm aur gyan yog - 


ज्ञानयोग सांसारिक माया और उसके भ्रम को समझने की उच्च अवस्था है।  वास्तव में हमारे  ध्यान , ज्ञान और वास्तविकता को समझने की चेतन अवस्था जिसमे हम सांसारिक दृश्यों और भौतिक अवस्था की सत्यता का चेतन मन से अवलोकन करते है ज्ञान योग कहलाता है। 

ऐसा ज्ञान स्वयं के माध्यम से अर्जित किया जाता है इसके लिए भौतिकता के आवेश को स्वयं से दूर रखना आवश्यक है।  माया ज्ञान योग के वास्तविक स्वरुप को समझने में बाधक है।  

ज्ञान योग की पहली अवस्था गूढ़ अध्ययन की अवस्था  होती है इसमें पुस्तकों यथा  धार्मिक ग्रंथो का अध्ययन  किया जाता है  .  अवस्था चिंतन और मनन की अवस्था होती है और अंत में ध्यान द्वारा आत्मा को सांसारिक तत्वों से अलग करना होता है।

ध्यान योग में मनुष्य को संसार की वास्तविकता का ज्ञान होता है उसे नश्वर और अमरत्व का ज्ञान होता है और इतने ज्ञान के पश्चात ह्रदय की पवित्रता आने पर ईश्वर का वास होता है।  ज्ञान योग का रास्ता अत्यंत ही जटिल है इसके लिए संयम का होना आवश्यक है क्रोध और ईर्ष्या जैसे तमाम आसुरिक प्रवित्तियों के गुणों का त्याग करना पड़ता है मन को ईश्वर की प्रेरणा से पवित्र बनाना पड़ता है।

वर्तमान समय में मची आपाधापी और अशांति के वातावरण में एक अध्यात्म ही एक ऐसा माध्यम है जो हमें  शांति के पथ पर ले जाता है और ज्ञान योग जीवन की वास्तविकता को समझने में हमारी मदद करता है ताकि हम निरर्थक और सार्थक जीवन को समझ सके और ईश्वर द्वारा प्रदत्त बहुमूल्य मनुष्य योनि का सदुपयोग करते हुए अपने चारो और प्रकाश फैला सके। 



akhilesh ki maya



अखिलेश की माया  akhilesh ki maya - 



akhilesh ki maya
न्यूज़ चैनलों पे इन दिनों होने वाले कॉन्क्लेव की बाढ़ सी आई हुई है। जिसमे हर जगह योगी जी उपस्थित है और उत्तर प्रदेश में होने वाली हार पे अपनी राय जाहिर करते हुए दिखते है।  अचानक से इन चैनलों पे इस तरह के प्रोग्राम और भाजपा की हिस्सेदारी साफ़ तौर  पे अपनी छवि सुधरने की कोशिश है।  गोरखपुर की हार कही न कही भाजपा में योगी का कद घटाने वाली ऐसी घटना है जिसकी चिंता खुद योगी के चेहरे पे साफ झलकती है। 

इस हार के पीछे भाजपा की अपनी करनी जो भी हो चाहे वो जनता के बीच अपनी पकड़ खोती  जा रही हो या योगी  के कद को बड़े नेताओ द्वारा छोटा करने की कोशिश हो जिसमे उम्मीदवार के चयन से लेकर मोदी का प्रचार न करना और भी तमाम बातें है लेकिन जो बात स्पष्ट है वो है सपा और बसपा की आपसी सांठ गाँठ। 

उत्तर - प्रदेश देश का एक ऐसा राज्य है जिसके बारे में कहा जाता है की दिल्ली का रास्ता यही से होकर गुजरता है इसीलिए 2014 के चुनावों में भाजपा ने यहाँ से गठबंधन के साथ 73 सीटों पे जीत हासिल की और केंद्र में सरकार बनाई। ऐसे में मुख्यमंत्री का अपनी ही सीट गवाना कही न कही बीजेपी के माथे पर भी शिकन लाता है। अगले ही साल केंद्र के लिए चुनाव होने वाले है और ऐसे में उत्तर प्रदेश की अहमियत एक बार फिर बढ़ जाती है। 

उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा दो प्रमुख क्षेत्रीय पार्टिया है जिनकी सरकार यहाँ बनती रही है पर 2017 के विधानसभा चुनावो में बीजेपी ने यहाँ भारी बहुमत से सरकार बनाने में कामयाबी हासिल की।  पर कहते है माहौल बदलने में समय नहीं लगता।  अपने भारी भरकम फैसलों से सरकार के शुरूआती दिनों में ऐसा लगता था की जैसे काफी कुछ बदलने वाला है , लम्बे अर्से  से उत्तर प्रदेश में इन दोनों क्षेत्रीय पार्टियों ने विकास से अपना नाता तोड़ लिया था और उत्तर प्रदेश पिछड़ेपन का शिकार हो गया था। पर अपने शासन के अंतिम दिनों में  अखिलेश यादव इस बात को समझते हुए दिखे  की जातिय समीकरण के साथ चुनाव जितने के लिए विकास और प्रत्यक्ष रूप से जनता को लाभ पहुंचाने वाली योजनाए भी आवश्यक है इसलिए उन्होंने समाजवादी पेंशन से लेकर कन्या विद्याधन और लैपटॉप वितरण जैसी अनेक योजनाए चलाई परन्तु बीच में ही पारिवारिक कलह के चलते और परिवार द्वारा प्रदेश में राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते उनके सरकार की छवि ख़राब हुई परन्तु एक बात जो स्पष्ट है  वो ये है की इन सब के बावजूद वे अपनी छवि जनता के दिमाग में गढ़ने में कामयाब हुए।  निश्चित तौर पे वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री  के रूप में विकास की इबारत लिखने में कामयाब हुए। 


इन्ही सब के बीच वे पार्टी से पारिवारिक हस्तक्षेप दूर करने में भी सफल भी हुए और खुद पार्टी के अध्यक्ष बन बैठे।  अब एक बार फिर भाजपा की सरकार जिस प्रकार आम जनमानस से दूर होती दिख रही है उनके लिए खुद को साबित करने का सुनहरा अवसर है जिसे वे खोना नहीं चाहते।  यही कारण  है की उप चुनावों में जनता ने विकल्प के रूप में समाजवादी पार्टी का ही चुनाव किया। और दूसरा अहम् समीकरण बसपा का साथ जिसकी कल्पना शायद बीजेपी ने भी नहीं की थी क्योंकि गेस्ट हॉउस कांड के बाद इन दोनों पार्टियों का भविष्य में एक साथ आना लगभग असंभव था।

 परन्तु अखिलेश यादव ने अपनी रणनीतिक कुशलता से इसमें भी कामयाबी ही पाई। और अगर यह गठबंधन आगे भी जारी रहता है तो इसमें संदेह नहीं है की भाजपा का मिशन 2019 भी खतरे में पड़  सकता है।  मायावती के शासन को लोग मजबूत क़ानून व्यवस्था के तौर पे जानते है और बसपा  का निचले तबके का मजबूत वोटबैंक बहन जी के लिए सदैव समर्पित रहता है उसी प्रकार  समाजवादी पार्टी का पिछड़ी जाति  का एक वर्ग। उत्तर प्रदेश में इन  दोनों ही वर्ग का वोट प्रतिशत यदि आपस में मिल जाये तो आगामी लोकसभा चुनावों में काफी सीटे इन दोनों पार्टियों की झोली में आ गिरेंगी और भाजपा के मिशन को तगड़ा झटका लग सकता है। इसलिए भाजपा का प्रयास रहेगा की इनका गठबंधन हर हाल में न होने पाए क्योंकि फूलपुर और गोरखपुर की हार उसके लिए उसके मिशन 2019 के लिए खतरे की घंटी है। 

इन्हे भी पढ़े - 
    


highschool pass

हाईस्कूल की परीक्षा और हम  - high school ki pariksha aur hum 




highschool passअभी  पिछले साल की ही  बात है जब गोलुआ हाईस्कूल की परीक्षा में सत्तर  परसेंट  लाके  अपने पुरे गांव में हल्ला मचा दिया था।  इ अलग बात है की उसको अपना नाम भी लिखना नहीं आता। गोलुआ के हाईस्कूल पास होने की अलगे कहानी है , उ  तो स्कूले  नहीं जाना चाहता था पर उसकी अम्मा उसको समझाई की बेटवा लड़की वाले कहे है की कम से कम लड़का हाईस्कूल पास होना चाहिए और तुमको बस स्कूले तो जाना है वहां गुरूजी सब संभाल लेंगे। गोलुआ के रिश्ते की बात उसके मौसी की जेठानी की बहन के ननद की लड़की से चल रही  थी।लड़की वाले चाहते थे की लड़का कम से कम हाईस्कूल पास हो ताकि किसी अच्छे से स्कूल में जुगाड़ से  चपरासी बनवा दिया जाये  । उसके बाद तो गोलुआ फर्राटे से स्कूल की और ऐसा भागा की जैसे उसकी ट्रेन छूटी जा रही हो। 

गोलुआ को देख के बाकि सारे लइका लोग के माई - बाप  भी अपने - अपने होनहार सपूत से अइसे ही आशा लगा लिए थे। पर हम लोगो का दुःख कौन समझेगा की पुरे साल तो गिल्ली - डंडा , सनीमा और रिश्तेदारी निभाने में ही निकल जाता था और जो थोड़ा बहुत समय बचता था उसमे स्कूल चले जाते थे की सारे भाई लोग से मिल सके आखिर याराना भी तो जरुरी है।  

पिछले साल तो व्यवस्था मुलायम थी इसलिए गोलुआ निकल गया इस साल  पूरा योगी बनके साधना करनी पड़ेगी तो हमने भी साधना शुरू कर दी और रोज सुबह गुरु जी लोगो के घर के चक्कर काटना शुरू कर दिए दूध , दही , मट्ठा सब लेके गए पर गुरु जी लोग लेने से मना कर दिए बोले की बेटा ए साल सवाल नौकरी का है हम लोग खुदे कठिन परीक्षा के दौर से गुजर रहे है नही तो तुमको तो पता ही है पुरे साल तुम लोग हमरा कितना हेल्प करते हो और परीक्षा के टाइम हमलोग तुम्हारा। 

आजतक हम जब भी क्लास में सोये है तब  - तब तुम लोग शांति बनाये रखे हो जितने महीना हम नहीं आते थे तुम लोग खुदे हमारा हाजिरी दुसरे गुरु जी से लगवाए हो पर कभी कही शिकायत नहीं किये।  इसीलिए हम भी परीक्षा में पूरा कार्बन कपीये तुम लोगो को दे देते थे , और जो नहीं लिख पाता था उसके  घर से किसी को बुलवा लेते थे ताकि उ  बाहर लिख सके और तुम अंदर आराम से रहो।

सारी खिड़की पे एक - एक थो सीढ़ी लगवा दिए थे ताकि तुम्हरे घर के लोग भी इत्मीनान से देख सके और सवाल फसने पर पर्ची दे सके इसी चक्कर में कई लोग सीढ़ी अपने घरवे उठा ले गए , पानी ,  समोसा, कोल्ड - ड्रिंक सबका व्यवस्था किये रहे की तुम लोगो का मेहनत का पसीना बर्बाद न  जाये।  पर बेटा ये साल  जालिम सरकार नहीं चाह रही है की तुम लोग मेरिट लाके प्राइमरी का मस्टरवो बन सको। फौज में जा सको कुछ नहीं तो  चपरासियो बन सको और हमारे स्कूल का नाम रोशन कर सको । बेटा ई  सरकार चाह रही है की तुम भी चौराहे पे जाके पकौड़ा बेचो , बेरोजगार रहो , बिन ब्याहे रहो   गुरु जी की बातें ख़त्म होती उससे पहले ही हम फफक - फफक के रो पड़े और हमे देख के गुरु जी। 

इन्हे भी पढ़े - 


  




bjp and up election

बीजेपी की राजनीति की नाव मे जनता द्वारा छेद  bjp ki raajneeti ki naw me janta dwara chhed 




     


bjp and up election
बीजेपी की मौजूदा हार को अगर कोई मामूली हार समझता है तो वो बहुत बड़ी गलतफहमी का शिकार है . हार से पहले कम से कम इन दोनो लोकसभा के महत्व को समझना जरूरी है , एक फूलपुर लोकसभा से त्यागपत्र देकर उप मुख्यमंत्री बनने वाले केशव प्रसाद मौर्य और दूसरे लोकसभा से सांसद और प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ का संसदीय क्षेत्र गोरखपुर .

सबसे तेज़ झटका जिस संसदीय क्षेत्र का है वो है गोरखपुर , गोरखपुर एक ऐसा संसदीय क्षेत्र है जहा की जनता योगी के सिवा किसी और के बारे मे सोच भी नही सकती जहां हर चुनावो मे योगी की जीत का प्रतिशत बढ़ता ही जाता था , ये वही गोरखपुर हैं जिसके दम पे योगी अपनी राजनीति की हुंकार भरते है , हार की बात तो सपने मे भी नही आती और जिस जातीय समीकरण की बात कही जा रही है वो इतनो दिनो तक योगी की जीत मे कही देखने को नही मिली फिर अचानक से ऐसा क्या हो गया जिससे की पूरी जमीन ही खिसक गई और योगी धड़ाम से गिर पड़े .


दरअसल बीजेपी की हार पहले से ही तय थी , क्योंकि देर ही सही पर जनता को वर्तमान बीजेपी सरकार की कथनी और करनी मे फर्क समझ मे आने लगा है गली - चौराहे पे आम जनता की बातो मे बीजेपी को लेकर वैसा ही गुस्सा शुरु हो चुका है जैसा कांग्रेस के अंतिम दिनो मे हुआ करता था बस मुद्दे को लेकर फर्क है कांग्रेस के समय जो सबसे प्रभावी मुद्दा था वो था भ्रष्टाचार और इस समय जुमलेबाजी .

कहते है ये पब्लिक है सब जानती है , पर कभी काल कुछ समय के लिये इसे भी अपनी अदाकारी और राजनीति के नये तरीको से से भ्रमित किया जा सकता है पर कोई भी राजनेता इस भ्रम मे ना रहे की जनता का भ्रम अधिक दिनो तक बरकरार रखा जा सकता है और अपनी सत्ता चलाई जा सकती है .योगी भी अपनी स्वभाविक राजनीति जिसके लिये वी गोरखपुर मे जाने जाते है को छोड़कर भाजपा के उसी ढर्रे पे चल निकले जिसपे केन्द्र सरकार चल र्ही है .


वर्तमान समय मे केन्द्र की नीतियो से जनता त्रस्त आ चुकी है  भले ही सरकार  इसे लेकर कोई भी तर्क दे दे लेकिन सरकार आधार , गाय , हिन्दू - मुस्लिम , दंगे , भगवा , वंदे मातरम , बैंक मे खाता खुलवाने से लेकर टैक्स लगाने और जुमले बाजी से आगे नही बढ सकी . योगी भी मोदी की तरह ही विकास की बात करते - करते एक साल निकाल चुके थे , यहाँ तक की गोरखपुर की जनता की जो अपेक्षाये थी उनको पूरा करना तो दूर उनपर कभी ध्यान भी नही दिया ,पहले विपक्ष मे रहने के नाते जनता इसको अनदेखा करती रही और उन्हे वोट देती रही .

लेकिन इस बार वे खुद तो मुख्यमंत्री की कुर्सी तक जा पहुंचे और जनता बस इंतजार करती रही विकास का ,  लेकिन एक साल के इंतजार मे उसे समझ मे आ गया की केन्द्र और राज्य सरकार बस अच्छी बातें कर सकती है , लेकिन काम मे इनका मन नही लगता और धीरे - धीरे आक्रोश बढ़ता गया और उसका विस्फोट हुआ इन उप चुनावो मे .

इन्हे भी पढ़े - 

उप चुनावों में भाजपा की हार की समीक्षा

मोदी राजा

ye dil

ये दिल 



ye dil


बहुत कुछ कहती है निगाहे तेरी
कह दे की तुझे मुझपे ऐतबार नहीं

तेरा मुड़ के यूँ देखना , उसपे इस दिल का धड़कना
कह दे की ये प्यार नहीं


मेरी गलियों से तेरा गुजरना कोई तो बात है

मुझे आज भी याद वो पहली मुलाकात है
वो खाली खत वो लाल गुलाब
कुछ तो जरूर होंगे  तेरे ख्वाब

 खत था खाली  पर  था उसमे  प्यार भरा
हसरतो भरा था संसार तेरा

कैद हो चूका था मैं तेरे प्यार में
गुजरती थी सुबह और शाम उन्ही गलियों में मेरी
सिर्फ और सिर्फ तेरे इन्तजार में


हर सांस पे लिख चुका था नाम तेरा

धड़कन करती थी ऐतबार  तेरा

रात कटती थी तन्हाई में मेरी 
और तेरी यादों के सहारे  ही हो जाता था सवेरा 

 बंद क्या हुआ तेरा मेरी गलियों से गुजरना 
धीमी पड़ी धड़कन 
शुरू हुआ आँखों का झरना 

ढूँढा तुझे सारे जहाँ में 
पर तू न जाने कहाँ खो गई 
पता चला की तू अब 
किसी और की हो गई। 

हम भी सुनकर मुस्कुराने लगे 
हंसने लगे और गाने लगे 

सोचा की गम में दर्द दिल में रहता  है
और उसी दिल में तू बसता  है....... ....... .... और उसी दिल में तू बसता  है   

                                                                             
  इन्हे भी पढ़े  - 

खामोश लब 
नया दौर 

up chunawo me bjp ki haar ki samiksha

उप चुनावों में भाजपा की हार की समीक्षा up chunawo me bjp ki haar ki samiksha  


up chunawo me bjp ki haar ki samiksha


महज दो सीटों की हार ऐसी हार है जिसने बीजेपी की नींद उड़ा दी है , हो भी क्यों नहीं बीजेपी जिस अति आत्मविशास की नौका पे सवार थी उसमे कही  न कही छेद होना शुरू हो चुका है।

पहले तो इन दो सीटों के महत्व को जानना भी जरुरी है जिनको लेकर बीजेपी के चेहरे पे इतनी शिकन आ चुकी है , इन दो सीटों में एक तो फूलपुर की सीट है जो की वर्तमान उप  मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा खाली की गई है और दूसरी वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा खाली की गई गोरखपुर की वो प्रतिष्ठित सीट है जिसपे हर बार उनकी जीत का प्रतिशत बढ़ते ही जाता था। गोरखपुर में होने वाले चुनाव में मुद्द्दा बस यही रहता था की योगी इस बार पिछली बार की अपेक्षा कितने अधिक वोटो  से जीतते है , 29 साल से लगातार मंदिर का ही वर्चस्व इस सीट पर रहता था यहाँ ना जाति  काम आती थी न कोई और चेहरा। 


यही वजह है की बीजेपी इस सीट पर अति आत्मविश्वास का शिकार हो गई और जनता के मन में सरकार की कार्यप्रणाली से होने वाली नाराजगी को  भाप नहीं पाई।  दरअसल अन्य राज्यों में भी केंद्र की सरकार को लेकर आक्रोश था इसका उदाहरण गुजरात चुनावों से बेहतर कोई और नहीं हो सकता यहाँ बीजेपी जीत  के बाद भी  हार गई। बस थोड़ी बहुत सहानुभूति मोदी का गृह राज्य होने की वजह से मिल पाई जिससे की वो अपनी इज्जत बचा सकी.

सरकार का प्राथमिक उद्देश्य जनता की भलाई होना चाहिए। भारत जैसे विशाल देश में जहा जनता अपनी रोजमर्रा की समस्याओ से जूझ  रही है. वहां उसे सिर्फ और सिर्फ विकास चाहिए इन्ही अच्छे दिनों की आस में उसने भारी बहुमत केंद्र की सरकार को दिया था परन्तु केंद्र की सरकार गाय ,हिन्दू , मंदिर , मुस्लिम  और ध्रुवीकरण की राजनीति से आगे नहीं बढ़ सकी. उसी ढर्रे पे मौजूदा राज्य सरकार भी चलने लगी और प्रदेश में बेरोजगारी , गरीबी और आम जनता करो के बोझ के नीचे  दबती चली गई।  विकास के ही नाम पे जनता ने नोटबंदी जैसे निर्णयों में सरकार का साथ दिया परन्तु धीरे धीरे उसे समझ में आने लगा की इतना साथ देने के बाद भी इन चार सालो में उसे कुछ  हासिल नहीं हुआ।  नौकरी के नाम पे केवल जाँच कराइ जाती रही और उसका कीमती समय जाया किया गया। बेरोजगारी के नाम पे उसे पकौड़े तलने को कहा गया ,  विकास के नाम पे उसे आपस में ही लड़ाया जाता रहा , हिन्दूत्व के नाम पे बस वोट लिया जाता रहा और उसके बाद फिर उसे उम्मीद ही लगाए रहने को कहा गया। 

सरकार तब तक ही जनता को भ्रमित कर सकती है जब तक की वो वास्तविकता को न समझे।  अगर ईमानदार होना ही सरकार बनाये रखने का गुण  है तो मनमोहन सिंह से बेहतर कोई और नहीं हो सकता था। 

भारत की अधिकांश जनता गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करती है और दूसरा वर्ग जो किसी तरह अपनी जीविका चलाता है वो मध्यम वर्ग के अंतर्गत आता है इन्ही दो वर्गो ने बीजेपी को बहुमत से सरकार बनवाने में 
खुलकर समर्थन दिया था , परन्तु सरकार ने न इनके लिए उचित रोजगार की व्यवस्था की न ही मध्यम वर्ग का बोझ ही हल्का किया बदले में देशहित के नाम पर इनका बखूबी इस्तेमाल किया गया और लाभ उस उच्च वर्ग को पहुंचाया गया जिनके वोट से एक संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधि तक न चुना जा सके। जुमलेबाजी भी कुछ ही दिनों तक अच्छी लगती है उसके बाद बिना विकास के सारी  बाते जनता के लिए निरर्थक है। 

इन सीटों पर बीजेपी की हार इसी आक्रोश का नतीजा है अगर अभी भी सरकार किसी ग़लतफ़हमी में है तो आने वाले दिनों में उसे इसका भारी  खामियाजा उठाना पड़  सकता है। उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार ने जनता की इसी नब्ज को समझ कर अनेक लोककल्याणकारी कार्यो की शुरुआत की थी परन्तु जाति  विशेष को बढ़ावा देने और लचर कानून व्यवस्था  के कारण जनता ने समाजवादी सरकार को नकार दिया था अगर अखिलेश सरकार इन कमियों को वक़्त रहते दुरुस्त कर लेती  तो उसे उत्तर प्रदेश में हराना मुश्किल था , यही वजह है की आम आदमी ने इन उप चुनावों में एक बार फिर सपा को ही मौका दिया , जाति फैक्टर तभी काम आती है जब विकास का मुद्दा ढीला पड़  जाता है , इसका 2014 के लोकसभा चुनावों से बड़ा उदाहरण कोई और नहीं हो सकता जहा केवल वोट मोदी की विकासवादी छवि पर पड़ा था आज वही छवि कही पीछे छूट चुकी है और भाजपा की  कथनी और करनी में एक बहुत बड़ा अंतर आ चूका है। 

मौजूदा सरकारों को समझना चाहिए की जनता भी अब अपनी बात तर्क के माध्यम से रखना जानती है उसे और उसके साथ होने वाले  विश्वासघात पर वो चुप नहीं बैठ सकती।  चुनाव ही एक ऐसा माध्यम है जिनके जरिये वो इन राजनेताओ को आइना दिखाती है।  




 इन्हे  भी पढ़े  - 

उफ्फ ये बेरोजगारी

   



रचनाकार: संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 58 : ...

रचनाकार: संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 58 : ...: प्रविष्टि क्र. 58 फर्ज़ रोहित राय कहते हैं कि मन का हो तो अच्छा न हो तो ज्यादा अच्छा। यही विचार करते हुए मेरे कदम स्टेशन की ओर बढ़ चले, आज चा..
रोहित राय


कहते हैं कि मन का हो तो अच्छा न हो तो ज्यादा अच्छा। यही विचार करते हुए मेरे कदम स्टेशन की ओर बढ़ चले, आज चार साल की नौकरी के बाद जिंदगी किस करवट जाएगी कुछ कहा नहीं जा सकता, सुबह से ही सोच के बैठे थे की आज माँ को रिश्ते की बात आगे बढ़ाने को बोल देंगे, सरकारी नौकरी वो भी पुलिस की नौकरी में लगातार होते तबादलों से मैं परेशान हो उठा था। अनेक ब्राम्हण परिवारों से कई सारे रिश्ते आये पर नौकरी की वजह से माँ को रोके रखा।

पर कुछ दिनों से उसकी तबीयत इसी चिंता से ख़राब होते देख आज मैंने ये तय कर लिया था की माँ से बात बढ़ाने को बोल ही दूंगा।

तभी रेलवे स्टेशन से फ़ोन आया की वहाँ कुछ अराजक तत्वों ने उत्पात मचा रखा है तथा स्थिति नियंत्रण से बाहर हो चुकी है। रेलवे स्टेशन का एरिया मेरे ही अधिकार क्षेत्र में था और मैंने वहां कुछ दिन पहले ही पुलिस उपाधीक्षक के रूप में अपना कार्यभार ग्रहण किया था। मैं सादी वर्दी में ही घर से नियंत्रण कक्ष पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजने की सूचना देकर निकल पड़ा। हां साथ में हर समय सुरक्षा के लिए रहने वाले दो कांस्टेबल जरूर थे।

स्टेशन पे बाहर गाडी लगाकर हम पैदल ही मुख्य मार्ग से अंदर की और बढ़ चले। रास्ते में ही मैंने घटित होने वाली सारी स्थितियों पर विचार करके अपनी तैयारियां पूरी कर ली थी। स्टेशन के अंदर कदम रखते ही एक अलग तरह का नजारा था वैसे तो हम पुलिस वालों के लिए ये आम बात थी और समझने में देर नहीं लगी कि ये किसी राजनीतिक पार्टी विशेष का काम है और अपने हित के लिए चारों तरह धार्मिक उन्माद फ़ैलाने की कोशिश की जा रही थी, जिसमें विशेष धर्म के लोगो को निशाना बनाया जा रहा था। मैं बस इसी बात को लेकर हैरान था की अभी तक इनके किसी आका का मेरे पास फोन क्यों नहीं आया। मैंने तुरंत ही कांस्टेबल से लाउडस्पीकर लेकर शांति की अपील की और उन्मादियों को पुलिस के आगे सरेंडर करने को कहा परन्तु वे तो बात सुनने को ही तैयार नहीं थे , अनेक लोगों को उन्होने लहूलुहान कर दिया था। कई तो इस कदर जख्मी थे की आम आदमी की रूह काँप जाये।

मौके की नजाकत को देखते हुए मैंने रिवाल्वर निकाल कर हवा में दो राउंड फायरिंग कर डाली, इस पर भी कोई असर न होने तथा अतिरिक्त पुलिस बल आने में समय को देखते हुए मैं होने वाले जानमाल के नुकसान  की कल्पना से खुद ही उन्मादियों के बीच घुस गया और उन्हें इस बार पुलिसिया डंडे से समझाने का प्रयास करने लगा, मैं जानता था की इनके आकाओं ने इन्हें जितना हुक्म दिया है ये उसका अक्षरशः पालन करेंगे। लेकिन सबसे आवश्यक आम जनता की हिफाजत करना और सार्वजनिक संपत्ति को होने वाले नुकसान से बचाना था।

इन्हीं सबके बीच मेरी निगाह एक छोटी सी बच्ची पर पड़ी लगभग चार या पांच साल उम्र होगी उसकी जो कि शायद अपने माँ बाप से बिछड़ गई थी और सहमी हुई सी स्टेशन के एक कूड़ेदान के पीछे खड़ी थी, सलामत इसलिए थी की शायद अब तक किसी की निगाह वहां तक नहीं पहुंची होगी। मैने सबसे पहले उस बच्ची को सुरक्षित करना जरुरी समझा और उसकी तरफ बढ़ने लगा, तभी पता नहीं कहा से एक काफिला हथियारों से लैस मेरी तरफ बढ़ने लगा ,मैं उस वक़्त बच्ची के करीब पहुँच चुका था, सादी वर्दी की वजह से उन्हें ये नहीं मालूम था की मैं पुलिस वाला हूं।

मैं भी एक हाथ में डंडा और दूसरे हाथ में अपनी रिवाल्वर निकाल चुका था उनमें से कुछ रिवाल्वर देखते ही खिसक लिए परन्तु कुछ जिनके चेहरे पे रक्त पिपासा साफ़ झलक रही थी मेरी और बच्ची की तरफ हाथों में तलवार और हॉकी लेकर तेजी से आने लगे। दिमाग में खुद से ज्यादा बच्ची की चिंता हो उठी सोचा शायद ईश्वर ने मुझे यहाँ इसी उद्देश्य से भेजा होगा।

बच्ची को तुरंत ही खाली कचरे के डब्बे में बैठाकर, ताकि झटके में भी उसे किसी तरह की चोट ना पहुंचे मै मुकाबला करने थोड़ा सा आगे बढ़ गया, तलवार वाले दो शख्शों के पैर पे मैंने गोली मार दी जिससे की वो वही गिर पड़े बाकी के लिए मेरा डंडा ही काफी था। पता नहीं उस वक़्त कहां से मुझमें इतनी ताकत आ गई या किसी ईश्वरीय शक्ति की प्रेरणा थी जिससे की मैं इतने लोगों का मुकाबला करने लगा, तभी अतिरिक्त पुलिस बल भी आ गई जिसको देखते ही वे भागने लगे। मैंने तुरंत ही सबको पकड़ने का आदेश दिया वो भी अच्छी खातिरदारी के साथ क्योंकि पता नहीं पुलिस स्टेशन पहुंचने तक इनके ना जाने कितने सुबह चिंतक आ जाये।

अब मैं बच्ची के पास पहुंचा और उसे निकाल कर अपने साथ लेकर चलने लगा। बच्ची बहुत डर गई थी इसलिए मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया बच्ची ने भी अब तक हुए घटनाक्रम से अंदाजा लगा लिया था की मैं उसे बचाने की कोशिश कर रहा था, इसलिए वो मेरे साथ काफी सहज थी और धीरे - धीरे सामान्य होने की कोशिश करने लगी। मैं भी उससे बातचीत में उसका नाम जानने की कोशिश करने लगा जिससे की उसके माता - पिता को खोज सकूँ। उसने कई बार प्रयास करने के बाद अपना नाम आसिया बताया और पिता का नाम मजहर अली मां को वो अम्मी ही कहती थी।

मैं बच्ची को लेकर स्टेशन के पूछताछ कार्यालय पहुंचा ताकि बच्ची के माता - पिता को इसकी सूचना प्रसारित करवा सकूं, लेकिन तभी एक अभिभावक बच्ची को देखते ही रोते हुए भाग के मेरे पास आये। महिला को देखते ही बच्ची अम्मी - अम्मी कहते हुए उससे लिपट गई, मैं समझ गया की यही बच्ची के माता - पिता है। महिला रोते हुए मेरे पैरो पे गिर गई, मैंने तुरंत ही उन्हें उठाते हुए सांत्वना दी व पुलिसिया आदत से मजबूर उनकी पूरी जानकारी और बच्ची द्वारा शिनाख्त किये जाने पर बच्ची को उन्हें सौंप कर आगे की घटना की जानकारी लेने और निर्देश देने बढ़ चला।.

khamosh lub



खामोश लब khmosh lub


खामोश लबो से बोलते क्यों नहीं  ?
दिलो के दरवाजे खोलते  क्यों नहीं  ? 


माना की डरते हो अब लहरों से भी तुम  
तो क्या हुआ , जो बारिशो में अब भींगते क्यों नहीं  ?


जलाते थे आँधियो में भी चिराग तुम 
फिर बैठे हुए अब थकते क्यों नहीं ?


तन्हाई से बेशक मुहब्बत है अब तुम्हे 
कभी ज़िन्दगी से मुहब्बत करते क्यों नहीं ?
देखते हो बैठ के लम्हो  को गुजरते हुए 
कभी इन पलो  में गुजरते क्यों नहीं ?

जिंदगी लेती है इम्तहान हर कदम पर 
फिर अपने कदमो को बढ़ाते क्यों नहीं  ?

कदम दर कदम मंजिल पास आती जाएगी तुम्हारे 
फिर  मंजिलो को पाकर भी मुस्कुराते क्यों नहीं ?

क्या राज है क्या  दर्द है तुम्हारा 
कभी इस जहाँ को बताते क्यों नहीं ?

खामोश ............  
                                                                                                                                                                                      रायजी 
इन्हे भी पढ़े  - 

चेतना  (कविता)





rahul gabdhi and singapur's truth


राहुल गाँधी और सिंगापुर का सच  rahul gandhi aur singapur ka sach - 




राहुल गाँधी कब कहा पहुँच जाते है ये किसी को नहीं पता रहता , फिलहाल उन्होंने इस बार सिंगापुर से बीजेपी पे हमला किया है। 
राहुल गाँधी सिंगापुर के ली कुआन यिवु स्कूल की परिचर्चा में भाग ले रहे थे , यह सिंगापुर के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक है जिसकी परिचर्चा में उन्हें आमंत्रित किया गया था , कार्यक्रम का संचालन प्रतिष्ठित लेखक प्रसेनजित के बसु कर रहे थे। परिचर्चा में  राहुल गाँधी कहते है की भारत में इस समय एक अलग तरह की राजनीति हो रही है। जिसमे लोगो को बांटा जा रहा है और उनके अंदर गुस्सा पैदा किया जा रहा है ताकि यह गुस्सा वोट बैंक  में बदल सके।  हालांकि वे ये भी कहते है की इस तरह की राजनीति विश्व के कई अन्य देशो में भी हो रही है। 

राहुल इससे पहले अमेरिका में भी एक प्रेस कांफ्रेंस में नए अवतार में दिखाई दिए थे , पता नहीं इनको अपने देश की मीडिया से क्या दिक्कत है जो हमेशा विदेशी मीडिया में जाकर विपक्ष पर अत्यधिक हमलावर हो जाते है। 
या उन्हें लगता है इस देश की मीडिया हर बात पे उनकी गलत छवि पेश करती है। 

राहुल गाँधी ने इस परिचर्चा में उच्चतम न्यायलय के चार वरिष्ठ न्यायधीशों का भी जिक्र किया, उन्होंने जस्टिस लोया मामले में सीधे - सीधे अमित शाह का नाम लिया राहुल गांधी ने यह भी  कहा की भारत में इस समय एक तरह के  डर का माहौल है , आज अगर महात्मा गाँधी जीवित होते तो वे भी दुखी होते। 

प्रसेनजीत बसु ने कांग्रेस के  वीडियो  को फर्जी करार दिया -  



इस वीडियो को कांग्रेस के ट्विटर हैंडलर पे डाला गया है। जिसको देखने के बाद लेखक प्रसेनजीत बसु ने ही इसमें  गलत तरीके से एडिटिंग करने का आरोप लगाया है , उनके अनुसार सवालों और जवाबो की इस कड़ी में काफी कांट - छांट की गई है , जिससे की मूल वीडियो ही बदल गया है।  कांग्रेस पार्टी पर इस तरह का यह कोई पहला आरोप  नहीं है इससे पहले भी इस तरह के कई आरोप  लगते आये है , पर जिसने सवाल पूछा वही अगर इस विडियो  पर सवालिया निशान  लगाता है तो प्रश्न कांग्रेस की सुचिता और राजनीति के गिरते स्तर पर आना स्वाभाविक है। प्रसेनजीत बसु ने इस वीडियो  को कांग्रेस द्वारा जल्द से जल्द अपने ट्विटर हैंडलर से हटाने को कहा है। अगर कांग्रेस ऐसा नहीं करती है तो उसे सिंगापुर की अदालत  में आने के लिया तैयार रहना होगा। 

महत्वपूर्ण सवाल - 


प्रसेनजीत के जो सबसे महत्वपूर्ण सवाल राहुल गाँधी से थे उनमे वंशवाद को लेकर सीधा प्रश्न यह था  की उनकी पार्टी  भारत में 62 साल सत्ता में रही और इतने दिनों में जब परिवार से कोई प्रधानमंत्री रहा तब - तब  भारत में आम आदमी की औसत आमदनी विश्व की अपेक्षा कम  रही यानि आम आदमी गरीब ही रहा जबकि  परिवार अमीर  होते गया , वही जब सत्ता परिवार से इतर कांग्रेस में ही या अन्य दलों में  दुसरे व्यक्ति के हाथ में रही जैसे नरसिम्हा राव, अटल बिहारी बाजपेयी  तो आम आदमी की जीडीपी संसार के अन्य देशो की तुलना में ज्यादा तेजी से बढ़ी। नेहरू के समय तो जीडीपी स्वाभाविक रूप से जितनी बढ़नी चाहिए उससे भी कम रही। इसका अर्थ यह है की परिवार  भारत को एक गरीब देश बनाकर रखना चाहता  था । 
कांग्रेस इन 62 सालो में भारत को गरीबी से मुक्ति क्यों नहीं दिला पाई जबकि वर्तमान सरकार के केवल चार साल पुरे होने पर उससे हिसाब माँगा जाता है। 

ऐसे ही कई सवालों के जवाब जो उस समय राहुल गांधी नहीं दे पाए उनको इस वीडियो में एडिटिंग के जरिये दर्शाया या हटाया  गया है। 
एक सवाल मेरा भी कांग्रेस से था जो मैं बार -  बार पूछता हूँ की अगर परिवारवाद न होता तो क्या राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष पद के सबसे योग्य  उम्मीदवार है , और क्या इतनी नाकामियों के बाद भी  वे इस कुर्सी और कांग्रेस के भावी प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी पर टिके  रह पाते  ?

इन्हे भी पढ़े - 

नरेन्द्र मोदी और राहुल गांधी 

मोदी राजा - king modi 



wah re sharma jee

वाह रे शर्मा जी wah re sharma jee 


बीवी और टीवी ये दोनों दूर से ही चले तो अच्छी है पास से देखने पे एक आँखों के लिए नुकसानदायक है और दूसरा मन की शांति के लिए।और इसीलिए लगता है की दोनों ही रिमोट से चलती तो कितना अच्छा होता।  

शर्मा जी आज सुबह ऑफिस के लिए तैयार होते वक़्त यही सोच रहे थे की आज सुबह उनसे ऐसी कौन सी खता हो गई की उनकी बीवी उनपे ट्रक के हार्न की तरह बजती ही जा रही है। सुबह उन्होंने बस इतना ही तो कहा था की आज नाश्ते में आलू के पराठें की  जगह मूली के परांठे बन जाये तो  उन्होंने ऐसा कौन सा गुनाह कर  दिया ये अलग बात है की शर्मा जी को गैस की प्रॉब्लम है पर बीवी को क्या समस्या  थी, नहीं बनाना था तो एक बार बोल ही  दी होती सर पे आसमां उठाने की क्या जरुरत थी। 

अभी कल ही मुंह से बस गलती से ही निकल गया की कानपुर भारत  के सबसे गंदे शहरो में से एक है वहा  स्वच्छ भारत अभियान की धज्जिया उड़ रही है   फिर क्या  फिर तो ना जाने कितनी बुराइया मुझमे और नैनीताल शहर में निकल आई दोपहर के खाने तक से महरूम होना पड़ा  वो अलग , अब तक तो आप समझ ही गए होंगे की  शर्मा जी नैनीताल के थे और उनकी श्रीमती जी कानपूर की। भला कानपुर की बुराई करना उनके मायके की बुराई करने से कम थोड़ी न था। 

खैर शर्मा जी ने अपना ध्यान सामने आई मुसीबत से हटाकर डाइनिंग टेबल पर रखे आलू के परांठे , धनिया और टमाटर की चटनी पे लगाया। नाश्ता खत्म होते ही वे घर के जरुरी कामों की सूची मांगने ,हिम्मत करके श्रीमती जी के पास पहुंचे, देखे तो श्रीमती जी के चेहरे पे कुटिल मुस्कान झलक रही थी ,वे  मन ही मन सोचने लगे  इतनी जल्दी तो गिरगिट भी  अपना रंग नहीं बदलता  जरूर दाल में कुछ काला है।  

श्रीमती जी बोली - " सुना है आपका प्रमोशन होने वाला है "
शर्मा जी - " हाँ तो "
श्रीमती जी  - " मैं सोच रही थी की आपके प्रमोशन के बाद हम कुछ दिनों के लिए कानपुर  घूमने चले "
शर्मा जी - " ठीक है देखता हूँ। " कहकर शर्मा जी ने वह से खिसकने में ही अपनी भलाई समझी। 

wah re sharma jee


शर्मा जी रास्ते में यही सोच रहे थे की पिछले हफ्ते   बाबू जी का फ़ोन आने पर घर में कैसे तहलका मच गया था। मां की तबियत अचानक ही ख़राब हो गई थी और उनकी देख रेख करने वाला वहा  पर कोई नहीं था।  बड़े भाई साहब परिवार समेत विदेश में जा बसे थे और उन्हें सबसे कोई मतलब ही नहीं था और छोटा भाई आई आई टी से इंजीनियरिंग की पढाई कर रहा था। एक मैं ही था जिनसे उनकी उम्मीद कायम थी , मैंने भी कई बार उनको अपने पास लाने की कोशिश की पर वे अपना पुश्तैनी मकान  छोड़ने को तैयार ही  नहीं थे। आखिर होते भी क्यों वो मकान नहीं  घर था हमारा जिससे हमारी अनेक यादें जुडी थी , ये यादें ही तो थी जिनके सहारे उनकी जिंदगी गुजर रही थी। 

अगले दिन ही शर्मा जी घर से ऑफिस के किसी काम का बहाना लेकर अपने गांव निकल लिए , आखिर उस मां  के लिए उनके भी कुछ फर्ज थे जिसका अंश वे है। जिसकी ऊँगली पकड़ के वे इतने बड़े हुए और जिसकी ममता की कोई कीमत नहीं लगाई जा सकती।  एक अजीब सी शांति और संतोष था शर्मा जी के चेहरे पर क्योंकि वे परिवार में संतुलन बनाना जान गए थे। और अपनी जिम्मेदारियों को अच्छी तरह से  निभाना भी। 




इन्हे भी पढ़े - 

कानपुर वाले पांडेय जी 




SPECIAL POST

ishq

इश्क़  इश्क़ के समंदर में डूबते  है  आशिक़ कई  बोलो वाह भई वाह भई  वाह भई  इश्क़ के रोग  का इलाज नहीं  फिर भी  इस रोग में  पड़ते है कई ...

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें