kamal haasan and arvind kejriwaal



कमल हासन और अरविन्द केजरीवाल  - 


kamal haasan and arvind kejriwaal
kh and ak  



कमल हसन की अदाकारी का मैं बड़ा फैन रहा हूँ ,उनकी चाची  420 बचपन के दिनों से ही मेरी पसंदीदा फिल्मो में से एक रही है।  उस समय कम  फिल्मे ही होती थी जिनमे बच्चो और बड़ो दोनों को कॉमेडी में मजा आता था।एक इंसान कैसे अपनी शादी को बचाने के लिए औरत का वेश धारण करता था वो भी उम्र दराज औरत का कमल हसन ने उसे बखूबी निभाया था ,फिल्म में छोटा  सा सन्देश जातिगत भेदभाव को लेकर भी था। आपकी जानकारी के लिए बता दूँ  की कमल हसन ने बतौर बाल कलाकार ६ वर्ष की उम्र में फिल्मो में कदम रखा था फिल्म का नाम था कलत्तुर कन्नमा। कमल हसन को कराटे और भरतनाट्यम का बखूबी ज्ञान है। जो की उन्होंने अपनी प्रारम्भिक अवस्था में ही ले लिया था। 
कमल हासन के नाम पदमश्री से लेकर चार बार राष्ट्रिय और अलग - भाषाओं में 19 फिल्मफेयर पुरस्कार मिल चुके है। उन्होंने खुद को पुरस्कारों से दूर रखने की घोषणा भी की थी. फिर भी २०१४ में उन्हें पदमविभूषण से सम्मानित किया गया। कमल हासन हे राम जैसी फिल्मो का निर्देशन भी कर चुके है जो गांधी जी की हत्या पर आधारित था और जिसमे शाहरुख़ खान ने काम किया था। कमल हासन अपनी पारिवारिक जिंदगी की वजह से भी काफी विवादित रहे कारण उनके अन्य अभिनेत्रियों से प्रेम - संबंध और  और कई शादिया रही है।  

हाल के दिनों में कमल हासन अपनी नई  पार्टी  को लेकर फिर चर्चा में है और उससे ज्यादा चर्चा आम आदमी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को अपनी पार्टी के स्थापना के अवसर पे बतौर मुख्य अतिथि बनाकर।  केजरीवाल और आम आदमी पार्टी भी इधर कुछ दिनों से समाचार पत्रों की सुर्खियों में छाई हुई है वजह है आप विधायक अमानतुल्लाह खान और उनके अन्य सहयोगियों द्वारा दिल्ली के  मुख्य सचिव की पिटाई. आम आदमी पार्टी के विधायकों पे मारपीट का ये कोई पहला मामला नहीं है ऐसे मामलो की पूरी फेहरिश्त पड़ी हुई है। केजरीवाल भारतीय सोशल मीडिया में सबसे ज्यादा मजाक का पात्र बनने वाले किरदार बन चुके है ,उनकी खांसी से लेकर हर गतिविधि पर सोशल मीडिया में अनेक चुटकुले और कहानिया मिल जाएंगे. 


ऐसे में कमल हासन ने उन्हें अपनी पार्टी के स्थापना के अवसर पर बुलाकर सोशल मीडिया को एक और मसाला दे दिया है। अरविन्द केजरीवाल ने कमल हासन को क्या सलाह दी होगी  इस पर  अभी से  सोशल मीडिया में अनेक कमेंट उपलब्ध है। 

मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य के हालियां दिनों में रजनीकांत और कमल हासन दक्षिण भारत के दो ऐसे अभिनेता है जिन्होंने अपनी पार्टी बनाई है। आप को बता दूँ की दक्षिण भारत में अभिनेताओं द्वारा पार्टी बनाने का प्रचलन काफी पुराना है इसका कारण है की दक्षिण भारत में फिल्मो के सुपर स्टार का विशेष दर्जा है क्योंकि  उनके फैन उनके कट्टर समर्थक होते है इसीलिए दक्षिण भारत की फिल्मो में किसी न किसी सामाजिक मुद्दे खासतौर पे बिल्डर ,माफिया ,मंत्री ,साहूकार ,ज़मींदार या दुष्ट राजा द्वारा प्रजा का उत्पीड़न दिखाया जाता है और हीरो किसी सुपर मैन जैसा आकर उनसे लड़ता है और उन्हें उनके कष्टों से मुक्ति दिलाता है। हीरो को परोपकारी और समाज का हित करने वाला दर्शाया जाता है।  यही कारण है की जनता सुपर स्टार से अपनापन महसूस करने लगती है और उसकी दीवानगी अपने स्टार के प्रति जूनून में बदल जाती है , इसका उदाहरण दक्षिण भारतीय शादियों में सुपर - स्टार और राजनेताओ के लगने वाले बड़े - बड़े पोस्टर और फिल्म की रिलीज पर उनके पोस्टरों की पूजा करना है. 

परन्तु ऐसा सारे सितारों के साथ नहीं होता , कुछ चुनिंदा ही ऐसे है जिनके समर्थक  पुरे राज्य में होते है यही कारण है की चुनाव के समय राजनीतिक पार्टियां इन्हे अपने पक्ष में करने के लिए  प्रयासरत रहती है। और ये सुपर - स्टार भी इसका भरपूर लाभ लेते है कई स्टार सत्ता का केंद्र बिंदु बनने की लालसा से अपनी नई  पार्टी ही बना लेते है ताकि वे सीधे मुख्यमंत्री की कुर्सी पे ही काबिज हो जाये।  सितारों से मुख्यमंत्री बनने का सबसे बड़ा उदहारण जयललिता का था। 


जबकि उत्तर भारत में ऐसा नहीं हो पाता  सितारों के प्रशंसक  चुनाव में उन्हें ही जितवा दे यही बहुत है। कमल हसन ने अरविन्द केजरीवाल को बुलाकर दक्षिण भारतीय जनता को अच्छा सन्देश नहीं दिया है केजरीवाल और उनकी आम आदमी पार्टी इस समय भारतीय राजनीति की सबसे बड़ी विवादित पार्टी है , एक विवाद ख़तम नहीं होता की दूसरा शुरू हो जाता है  और केजरीवाल की छवि एक ऐसे अभिनेता की है जिसका झूठ बोलने और यू टर्न  लेने में कोई सानी  नहीं है।  मुझे लगता है की शायद किसी ने कमल हासन को इस बात की ग़लतफ़हमी पैदा कर दी है की अरविन्द केजरीवाल  आज भी युवाओ की पहली पसंद है तो कमल हासन ने शुरूआती दौर में ही अपनी पार्टी की जड़ो पे कुल्हाड़ी चलाने का काम किया है बाकी आने वाले समय में होने वाले चुनाव ही बताएँगे की भारतीय राजनीति में कमल हासन की पार्टी का भविष्य क्या होगा .   


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

SPECIAL POST

ishq

इश्क़  इश्क़ के समंदर में डूबते  है  आशिक़ कई  बोलो वाह भई वाह भई  वाह भई  इश्क़ के रोग  का इलाज नहीं  फिर भी  इस रोग में  पड़ते है कई ...

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें