भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी को नम आँखों से श्रद्धांजलि

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी को नम आँखों से श्रद्धांजलि

करणी सेना


करणी सेना - karani sena 


करणी सेना
महाराणा 
अगर इतिहास मे झाँका जाए तो राजपूत एक बहदुर कौम के तौर पे जानी जाती है वर्ण व्यवस्था मे जहा छत्रियो की उतपत्ति ब्रम्हा जी के भुजाओ से हुई है जो की समाज की रक्षा के लिये समय आने पर हथियार उठाये खड़ा रहता है , बाद के भी कई ग्रंथो मे भी उल्लेख है की असुरो से रक्षा के लिये भगवान से ऋषियो की प्रार्थना पर हवन कुण्ड से इनकी उत्पत्ती हुई , इतिहास मे पृथ्वीराज चौहान , महाराणा प्रताप , राणा सांगा जैसे अनेक उदाहरण पड़े हुए है . जिन्होने अपनी वीरता से राजपुतो का नाम शीर्ष तक पहुचाया .

करणी सेना
करणी सेना

परंतु इसी इतिहास की एक सच्चाई ये भी है की इन्ही राजपुतो मे एकता का सर्वथा अभाव रहा है जिसका समय समय पर अनेक आक्रमणकारियो ने लाभ उठाया है और इस धरा को लहूलुहान किया है . इन्ही की विखंडता के कारण मुग़ल भारत मे पैर जमाने मे सफल रहे . केवल तलवार से युद्ध नही लड़े जाते ये इन्हे इतिहास से सीखना चाहिये .

राजशाही खत्म हुए सालो हो गये अब तो प्रजातंत्र है पर कल भी हमारी मानसिक कमजोरी का लाभ दूसरे उठाते रहे और आज भी सत्ता के लालची अपने .. समय के साथ और कुछ हद तक हमारे राजनीतिज्ञों  के कारण हर समाज मे हर जाती मे संघठन बनते गये जो की स्वयं के हितो के लिये अलग अलग राजनीतिक पार्टीयो को समर्थन देते रहे है इनकी संख्याबल और समाज पर इनकी पकड ही इनकी प्रमुख ताकत होती है. समाज और समुदाय पर अपनी पकड बनाये रखने के लिये ए अक्सर ऐसे मुद्दो को हवा देते है जो उनकी भावनाओ से जुड़ी हो , करणी सेना बहुत दिनो से अपनी अस्तित्व की लड़ाई लड रही है. हालांकि देश के चौदह राज्यो मे इनके संगठन है 


. वर्तमान मे पद्मावती के रूप मे इन्हे एक ऐसा मुद्दा दिखाई दिया जिससे ए अपनी राजनीतिक विरासत चमका सकते थे . इस कारण इन्होने इस फिल्म को राजपूत अस्मिता पर खतरा बताकर इसका विरोध करना प्रारंभ कर दिया और धीरे धीरे ये सुर्खियो मे आने लगे . इसको देखते हुए इन्होने पूरे देश मे इसके विरोध की रणनीति बना ली और सडको पे उतर आये , फिल्म के रीलीज़ होने पर पाया गया की उसमे राजपुतो से सम्बंधित किसी प्रकार का उनकी भावनाओ को ठेस पहुचने वाला दृश्य नही है . फिर भी उनका विरोध जारी है और हमारी सरकार  उनके आगे नतमस्तक है…आखिर क्यो…..



इन्हे भी पढ़े  - 
राजनीतिक प्रबंधन
KANPUR

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

SPECIAL POST

ishq

इश्क़  इश्क़ के समंदर में डूबते  है  आशिक़ कई  बोलो वाह भई वाह भई  वाह भई  इश्क़ के रोग  का इलाज नहीं  फिर भी  इस रोग में  पड़ते है कई ...

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें