Beti Bachao Beti Padhao

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  beti bachao beti padhao


logo
बेटी बचाओ 

जाते जाते कल्लू आज अपने सातवे बच्चे (लड़के)के सत्ताइसा का न्योता देता गया . छह लड़कियों के बाद उसे एक लड़का हुआ था. दो बार उसकी पत्नी मरते मरते बची उसकी बड़ी लड़की 15 साल की हो गई थी पर लड़के की चाह न छूटी .

 बगल के शर्मा जी दो बार अपनी बहू का गर्भपात करवा चुके है दोनो ही लड़कियां थी, शर्मा जी पेशे से शिक्षक है और एक बालिका इंटर कॉलेज मे अध्यापन कार्य करते है उनके विद्यालय की ही एक छात्रा ने आई आई टी प्रवेश परीक्षा मे परीक्षा मे प्रथम स्थान प्राप्त किया था.


शर्मा जी और मेरे घर काम करने वाली बाई एक ही है नाम है मालती . इस कारण शर्मा जी के घर होने वाली बाते अक्सर अपनी मालकिन से बताया करती थी , उसकी खुद की दो बेटियाँ थी तथा एक बेटा, बेटा सबसे बड़ा था व गलत संगति और बुरी आदतो का शिकार था, वो मेहनत मजदूरी करके अपनी दोनो लड़कियों की पढ़ाई पर पूरा ध्यान दिया करती थी.


 वो कहती थी की साहब सब अपने सोचने की बात है भगवान ने धन और विद्या दोनो के लिये देविओ को ही चुना देवताओ को क्यो नही ? क्योंकि उन्हे पता था दोनो को संभालने की छ्मता केवल इन्ही के पास है.


 लड़कियां मालविका और नेहा दोनो शर्मा जी के विद्यालय की ही छात्रा थी कोचिंग की फीस ना होने के कारण दोनो ही शाम के समय मुझसे पढ़ा करती थी नेहा का इंटर फाइनल था. मेरी श्रीमती जी आज सुबह से परेशान थी तबियत खराब होने की वजह से घर का काम कर पाने वो असमर्थ थी तथा मालती का आज सुबह से ही कुछ पता नही था.


 वैसे तो वो अपने ना आने की सूचना दे देती थी पर जाने क्यो आज कोई खबर नही आई इस कारण काम का सारा बोझ मुझ पर आ पड़ा ,सुबह का अखबार तक नही पढ सका. शाम को घर आने पे पता चला की मालती की कोई खबर नही


 अब तो चिंता बढ गई तथा मैं किसी अनहोनी की आशंका से चिंतित हो उठा तभी अचानक से घंटी बजी श्रीमती जी ने दरवाज़ा खोला - मालती के साथ उसकी बड़ी बेटी थी और उसके हाथ मे एक डब्बा और अखबार था और आंखो मे अश्रु की धारा .


 अंदर आते ही नेहा मेरा पेर छुने लगी . हम कुछ पूछते उससे पहले ही वो बताने लगी की कैसे आज सुबह अखबार आते है आस - पड़ोस के लोगो का उसके घर पे जमावड़ा लग गया था उन लोगो ने उसे अखबार

 Beti Bachao Beti Padhao

दिखाया और बताया की उसकी बेटी ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा मे अव्वल स्थान प्राप्त किया है


 वे अखबार के पहले पन्ने पर छपी उसकी बेटी की फोटो दिखाने लगे और बताने लगे की अगले हफ्ते मुख्यमन्त्री द्वारा उसकी बेटी के लिये एक सम्मान समारोह भी है.


 सब उसकी बेटी से मिलकर उसे बधाई देना चाह रहे थे जिसने उनके मुहल्ले का नाम रोशन कर दिया जो की आजतक किसी का बेटा नही कर सका.



अवश्य पढ़े - 


zindaagi ki saarthakta

1 टिप्पणी:

  1. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सरकारी योजना Beti Bachao Beti Padhao in Hindi (BBBP) मुख्य रूप से बेटियो के लिए सुरू की गई योजना है। इस योजना का मुख्य आशय बेटियो की रक्षा,शिक्षा ओर समाज मे उनके स्थान को एक मजबूती देना है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ध्वारा इस योजना का प्रारंभ 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत से किया गया था। Beti Bachao Beti Padhao

    जवाब देंहटाएं

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें

SPECIAL POST

uff ye berojgaari

उफ्फ ये बेरोजगारी  - uff ye berojgari  कहते है खाली दिमाग शैतान का पर इस दिमाग में भरे क्या ? जबसे इंडिया में स्किल डिव्ल्पमें...