naya dour(poetry)

main aur wo

नया दौर naya dour 



हम भी नए थे कभी इस शहर में फरबरी माह में 
वो मिली थी कभी बीच राह  में

मुंह का ढक्कन खुल गया था 
और आँखों से ऐनक हट  गया था 

देखा  उनको तो दिल की धड़कन बढ़ने लगी
 और नजरो से नजरे लड़ने लगी 

हमने भी आंव न देखा न ताव 
लेके पहुँच गए बड़ा पाव 

और बोल दिया उनसे 
की इश्क़ हो गया है तुमसे 

तोहफा करो कबूल 
क्योंकि इश्क़ का ये है पहला उसूल 

शर्मा के मुस्कुरा दी वो 
और एक ही झटके में पूरा बड़ा पाँव खा गई वो 

और फिर लेकर डकार 
बोली आई लव यू  मेरे यार 

फिर क्या था 
लेके अपनी फटफटिया 
घूमे छपरा से लेकर हटिया 

तभी सामने आ गए पप्पा 
दिया खिंच के एक लप्पा 

जी भर के दिया  हमको  गाली 
नालायक , कमीना,लोफर  और मवाली 

देखा हमको पीटते 
वो भी चुपके से खिसके 

हमने कहा यही था साथ तुम्हारा 
पल भर में जीने मरने की कसमे  खाई थी 
और पल में साथ छोड़ गई हमारा

वो बोली कैसी कसमे  कैसा प्यार
ये तो है बाते बेकार 

ना  मैं हीर ना  तू रांझा
प्यार नहीं अब किसी का सच्चा 

आज तू कल कोई और है 
यही नया दौर है 

हमने भी बोल  दिया उससे
दौर चाहे कोई हो चाहे ये आँखे रोइ हो
आज भी हीर है आज भी है रांझा 
बस मैं ही थोड़ी देर से समझा।   


lekhak
लेखक 



congress mukt bharat ki or

कांग्रेस मुक्त भारत की ओर   congress mukt bharat की ओर - 

                                         
congress mukt bharat ki or
मोदी रैली 
                   


त्रिपुरा ,मेघालय और नागालैंड एक बार फिर से बीजेपी इन तीन  राज्यों में भी सरकार  बनाने में कामयाब हुई। 
इन तीनो राज्यों में मेघालय में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद भी कांग्रेस सरकार बनाने में चूक गई।  वैसे इसमें कोई बड़ी बात नहीं थी क्योंकि  कांग्रेस पार्टी इस समय कमजोर नेतृत्व के दौर से गुजर रही  है.राहुल गाँधी  एक बार फिर अपनी नानी से मिलने इटली जा चुके है वैसे उन्हें अपनी नानी को ही इंडिया बुला लेना चाहिए था , मुझे लगता है पार्टी से ज्यादा उन्हें पारिवारिक जिम्मेदारियां निभाने में सहजता महसूस होती है , सोनिया गांधी को भी समझ लेना चाहिए की किसी को भी उसके रूचि के अनुसार ही काम देना चाहिए नहीं तो वो उस काम का पूरा बंटाधार कर सकता है।  

इन तीन राज्यों में बीजेपी को उम्मीद  से बढ़कर समर्थन मिला है  जोकि साबित करता है की बीजेपी और मोदी का जलवा कायम है और वे कांग्रेस मुक्त भारत की ओर बढ़ते दिख रहे है। वर्तमान समय में 21 राज्यों में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों  की सरकार  है जिनमे से 15 राज्यों में बीजेपी के मुख्यमंत्री है ,कांग्रेस केवल 3 राज्य और एक केंद्र शासित प्रदेश में  सिमट के रह गई है जिनमे से पंजाब और कर्नाटका बड़े  राज्य है बाकि मिजोरम और  एक केंद्र शासित प्रदेश पॉन्डिचेरी है। 


यह कहना कबीले तारीफ़ होगा की बीजेपी ने इन राज्यों के लिए विशेष रणनीति बनाई थी इन राज्यों में चर्च का प्रभाव भी रहता है जिसके लिए बीजेपी ने अपना हिंदुत्व वादी चेहरा छोड़कर नई रणनीति बनाई और आम आदमी का विश्वास जितने में कामयाबी हासिल की। कांग्रेस अपनी आपसी गुटबाजी का शिकार हुई और आलाकमान उस पर कोई नियंत्रण नहीं कर पाया अब तो लगता है बीजेपी को कांग्रेस मुक्त भारत बनाने में खुद कांग्रेस और उसका कमजोर नेतृत्व ही एक सहायक के तौर  पे काम कर रहे है।क्योंकि कांग्रेस के पास मुद्दे होते हुए भी वो उनका इस्तेमाल नहीं कर पाती , संघठन में भी निराशा घर करते जा रही है जो की कमजोर नायकवाद या  यू  कहे की परिवारवाद  को आगे बढ़ाने  का ही फल है , नहीं तो कांग्रेस पार्टी में अभी कई ऐसे नेता है जो एक कुशल नेतृत्व देने में सक्षम है परन्तु उनके आगे आने पर पार्टी से परिवार का नियंत्रण क्षीण हो जायेगा। इसीलिए बीजेपी को वर्तमान में कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को पूरा करने से रोकने  वाला कोई दिखाई नहीं देता। 

मोदी लहर  इसलिए और बढ़ती जा रही है की किसी  भी पार्टी में नरेंद्र  मोदी  जैसा विश्वसनीय चेहरा नहीं है यही कारण है की अगले चुनाव नरेन्द्र मोदी बनाम ब्रांड मोदी  के बीच होंगे जहा इतने सालो में मोदी के समक्ष चुनौती उनके द्वारा किये गए वादे ही होंगे।  फिलहाल इन चुनावों के नतीजे बीजेपी  के लिए 2019  की  पृष्ठभुमि तैयार करने में काफी हद तक सहायता प्रदान करेंगे। 


मौजूदा समय में कांग्रेस को अपना अस्तित्व बचाने  के लिए संघर्ष करना पड़ेगा क्योंकि बीजेपी ने जो कांग्रेस मुक्त भारत का सपना देखा था वो कही न कही पूरा होते दिख रहा है , हर राज्य में होने वाले चुनाव में प्रमुख चेहरा मोदी का ही होता है  इसीलिए जीत का सेहरा भी किंग मोदी के सर ही बंधता है। 




social media vs news channel

सोशल मीडिया और न्यूज़ चैनल social media vs news channel


social media vs news channel
सोशल मीडिया 


जबसे फेसबुक ,व्हाट्सअप और इस जैसे अन्य अस्त्रों  का अवतरण हुआ है तबसे घर में मुंह बांधके बैठने वाले लोग भी अचानक से अपने विराट अवतार में मंच पे आने लगे है। बस कमाल  है कुछ उंगलियों का जो कीबोर्ड या टच स्क्रीन पे चलती है। पहले इंडिया - पाकिस्तान के मैच में टीवी गुस्सा उतरने का एक प्रमुख माध्यम हुआ करती थी। पर अब तो सोशल मीडिया पे ही वॉक युद्ध शुरू हो जाता है नित्य नए - नए शब्दों के अविष्कार होते रहता है जिनके प्रहार से विरोधी खेमे में तहलका मच जाता है।



social media vs news channel
न्यूज़ चैनल 


मुद्दा चाहे राजनीति का हो खेल का हो या समाज से जुड़ा हो सारी बातें आपको न्यूज़ चैनल से पहले सोशल मीडिया के माध्यम से मिल जाती है , हद तो तब हो जाती है जब परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र तक आपके व्हाट्सअप पर आ जाता है। एक समय था जब सोशल मीडिया के खिलाड़ी समाज में किसी तरह की अफवाह फ़ैलाने में कामयाब हो जाते थे इसके लिए वे साल भर पुरानी खबर मसाला लगाकर नए रूप में परोसते थे  या किसी अन्य जगहों की तस्वीर या विडियो दिखाकर उनका गलत इस्तेमाल किया करते थे ऐसे में सोशल मीडिया की विश्वसनीयता संदेहास्पद हो जाती थी बदस्तूर इनका खेल अभी भी जारी है परन्तु सोशल मीडिया के उपयोगकर्ता इन सारी बातो को अच्छे से समझने लगे है। अब इन पर वायरल खबर की पड़ताल करने के बाद ही उन पर विश्वास किया जाता है। इन खबरों की पड़ताल कई न्यूज़ चैनल भी करते है और अपने चैनल पे जासूसी जैसा धारावाहिक  बनाकर परोसते है। 

शायद ही कोई ऐसा घर या व्यक्ति हो जो सोशल मीडिया पे उपस्थित न हो। क्योंकि इस प्लेटफार्म पे उपस्थिति दर्ज न कराना  पिछड़ेपन की निशानी माना  जाता है ,इसी कारण  सारे न्यूज़ चैनल भी सोशल मीडिया पर उपस्थित है। कभी इनके कमेंट बॉक्स में जाके तो देखिये आपको सम्पूर्ण भारत की  विचारधारा की झलक मिल जाएगी ,और साथ में  कई उपयोगकर्ताओं के बीच चलने वाले वॉक युद्ध की झलक भी जिनमे कई ऐसे शब्द मिलेंगे जिनसे आप भी परिचित नहीं होंगे। 

न्यूज़ चैनल अक्सर खबरों को अपनी trp के अनुसार प्रबंधित करते है और इसके लिए वे किसी भी हद तक चले जाते है , एक ही खबर की अलग - अलग  न्यूज़ चैनलो पे  अलग - अलग व्याख्या की जाती है , जबकि  सोशल मीडिया में खबर  तो वही रहती है लेकिन उसपे आने वाले कमेंट अत्यंत ही रोचक होते है। अगर कोई खबर अच्छे तरीके से प्रस्तुत है तो उसको सराहना भी मिलती है , कभी कभी तो कोई खबर या वीडियो इतना पॉपुलर हो जाता है की उससे समबन्धित व्यक्ति अचानक से ही सुर्खियों में आ जाता है जिसकी उसे भी कोई उम्मीद नहीं रहती, तत्काल में वेलेंटाइन डे से पूर्व प्रिया  प्रकाश वारियर इसका सबसे बड़ा उदहारण है जो की पुरे देश का नेशनल क्रश बन गई थी। और उनके इंस्टाग्राम खाते में एक ही दिन में अनुयाईयों की संख्या छः लाख पहुंच गई  इस वजह से उनका कॅरियर अचानक से चमक उठा। 

कुल मिलकर सोशल मीडिया वर्तमान समय में आम आदमी की आवाज बनता जा रहा है और इसकी पहुँच और बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इससे लाभ लेने वालो की संख्या भी जो इसको अपने  अनुसार ढालने की कोशिश करते दिख जाते है। ऐसे लोगो में सबसे अधिक संख्या राजनीतिज्ञों की है क्योंकि न्यूज़ चैनेलो को तो वे अन्य तरीको से प्रबंधित कर लेते है और न्यूज़ चैनल व्यावसायिक होने के कारण अपना मूल धर्म सच वो भी पूरा सच को सामने लाने की बजाय उनसे होने वाले लाभ और हानि की समीक्षा करने के बाद ही उनका प्रसारण करते है जबकि सोशल मीडिया में आम आदमी भी अपनी बात और और किसी घटना को शेयर कर सकता है।


इसी कारण पहले जो राजनेता सोशल मीडिया को एक शसक्त माध्यम बताते थे वही सोशल मीडिया में अपने कार्यो की परिणीति के फलस्वरूप अपनी घटती लोकप्रियता और सोशल मीडिया पर  आम आदमी के तर्कों से परेशां  इसके दुरूपयोग की बात कर रहे है।  

इंटरनेट क्रांति और खास तौर पर डाटा के घटते दामों ने सोशल मीडिया को और बड़ा करने का काम किया है और इसपर आने वाली अनेक नई  तकनीक इसकी प्रसिद्धि को और बढ़ा ही  रही है , वही व्यावसायिकता और गलत रिपोर्टिंग के कारण न्यूज़ चैनल इनका मुकाबला करने में कही से सक्षम नहीं दिखते। 

      
इन्हे भी पढ़े - 

न्यूज़  चैनलों पे होने वाली डिबेट  और उनकी प्रासंगिकता



subramanyam swami

सुब्रमण्यम स्वामी वन मैन आर्मी subramanyamswami one man army - 

subramanyam swami
स्वामी 



सुब्रमण्यम स्वामी भारतीय राजनीति का वो चेहरा है जो अपनी बात बेबाक तरीके से रखने और उन्हें सिद्ध करने के लिए  कोर्ट का दरवाजा खटखाना भी नहीं चूकते। यहाँ तक की उनकी अपनी पार्टी बीजेपी भी उनके सवालो से परेशान  हो जाती है और बगले झाकने लगती है। सरकार के शुरूआती दौर में ही उन्होंने अरुण जेटली को वित्त मंत्री बनाये जाने पर सवालिया निशान लगाए थे और एक वकील को इतने बड़े देश की अर्थव्यवस्था तहस - नहस  करने का कारण बताया था। उनके बाद यशवंत सिन्हा ने भी वित्त मंत्री की काबिलियत पर प्रश्न चिन्ह लगाए थे। जो की स्वामी  की बातो का समर्थन था। इसका एक कारण ये भी है की स्वामी खुद एक अर्थशास्त्री है , उन्होंने हॉवर्ड यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है और  विश्व के  नामी अर्थशास्त्रियों के साथ शोध कार्य भी किया है।   हमने भी देखा की सरकार कैसे देश की अर्थव्यवस्था के नाम पर आम आदमी पर करो का बोझ बढाती जा रही है। और उसके कई फैसले गलत सिद्ध हुए है। स्वामी 1990  -  1991 तक भारत के वाणिज्य ,न्याय और विधि मंत्री रह चुके है और साथ में अंतराष्ट्रीय व्यापार आयोग के अध्यक्ष भी।


सुब्रमणयम  स्वामी के परेशां करने वाले सवालो से राहुल गाँधी भी अछूते नहीं रहे है पिछले साल उन्होंने राहुल गाँधी से उनकी जाति को लेकर ही सवाल पूछ लिया था की वे हिन्दू है या ईसाई , सुनंदा पुष्कर केस में उन्होंने शशि थरूर पर ही अपने बाण चला दिए थे। नेशनल हेराल्ड को लेकर स्वामी अभी भी सोनिया  गांधी के पीछे पड़े हुए है। 


स्वामी के पिता जी भारतीय सांख्यिकीय सेवा के अधिकारी थे और इसके निदेशक के पद से सेवानिवृत्त हुए थे इसलिए स्वामी ने भी अर्थशास्त्र से अपनी पढाई शुरू की। स्वामी आईआईटी में प्रोफ़ेसर भी रह चुके है और अपनी विचारधारा के कारण इंदिरा गाँधी की आँखों की किरकिरी भी इंदिरा गाँधी के कारण ही उन्हें अपनी नौकरी गवानी  पड़ी और तभी से स्वामी राजनीति में सक्रिय भी हुए। आपातकाल के दौरान स्वामी अपनी गिरफ़्तारी के पूर्व ही भूमिगत हो गए थे।  उन्होंने उस दौरान भी निर्भीकता से संसद में पहुंच कर अपनी बात रखने का साहस दिखाया था जब कोई इंदिरा गाँधी के विषय में बात करने से भी कतराता था। 

वैसे तो स्वामी के विषय में पूरी जीवनी कही भी मिल जाएगी। पर जरुरी है स्वामी की विचारधारा और सच के प्रति उनकी निष्ठां और निडरता को समझने की । इसी विचारधारा को लेकर स्वामी ने अपनी पार्टी भी बनाई थी पर लोकसभा चुनावों से पूर्व उसे भारतीय जनता पार्टी में विलय करा दिया था जिससे की नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एक सर्वजनहितकारी सरकार का गठन हो सके। स्वामी आज भी उन मुद्दों पे खुलकर बोलते है जिनपे आम नेता बात करने से भी कतराते है। स्वामी की छवि कुछ हद तक हिंदुत्व वादी की भी है इसलिए रामसेतु से लेकर राम मंदिर के निर्माण में भी स्वामी का लगाव देखने को मिलता है। राम मंदिर के निर्माण को लेकर स्वामी बीजेपी से भी सवाल पूछते नजर आ जाते है ये स्वामी ही है जिन्हे वन मैन आर्मी का दर्जा दिया जा सकता है। इसलिए आजकी युवा पीढ़ी में भी स्वामी के चाहने वालो की अच्छी संख्या है। जो इस देश के राजनीति  और समाज में होने वाले घटनाक्रम पे अपनी बात रखने और उसको सही साबित करने के लिए प्रयासरत है। ताकि देश की भ्रष्ट और संवेदनहीन व्यवस्था को सुधारा जा सके।  


इन्हे भी पढ़े  - 

मोदी राजा - king modi 



SPECIAL POST

ishq

इश्क़  इश्क़ के समंदर में डूबते  है  आशिक़ कई  बोलो वाह भई वाह भई  वाह भई  इश्क़ के रोग  का इलाज नहीं  फिर भी  इस रोग में  पड़ते है कई ...

इस माह की १० सबसे लोकप्रिय रचनायें